अपनी ओल्ड ऐज को गोल्ड ऐज में बदलने वाले इस नायक को नमन

अंजली सिंह
नेमो इंदौर ब्यूरो

इंदौर के महाराजा यशवंतराव हॉस्पिटल के बाहर पुलिस चौकी के पास तहखाने में एक 77 वर्षीय वृद्ध को हर उस मरीज़ की खबर रहती है जो गरीब व ज़रूरतमंद है.

ऐसा इसलिए है क्योंकि इलाज के दौरान मरीज़ के परिवार के सदस्य एक न एक बार राधेश्याम जी की दूकान में ज़रूर आता है.

राधेश्याम साबू जी ‘पर पीड़ा हर सोसाइटी समिति’ के अध्यक्ष हैं और वो इस समिति के माध्यम से इंदौर के M.Y. हॉस्पिटल में किसी गरीब के घर बच्चे के जन्म के पहले से लेकर किसी परेशान हालत परिवार के किसी सदस्य की मरने के बाद तक उनकी मदद करते हैं.

गर्भवती महिलाओं की इलाज़ में सहायता हो या हॉस्पिटल में भर्ती मरीज़ों की इलाज में सहायता, यहां तक कि गरीब परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु पर उसके दाह संस्कार में भी मदद करते हैं.

हॉस्पिटल परिसर में ही उनकी दुकान पर मरीज़ों की सहायता की लगभग हर वस्तु उपलब्ध है, मूलभूत दवाओं से लेकर कई महंगे उपकरणों तक.

इन महंगे उपकरणों का उपयोग कर लोग उन्हें वापस कर जाएँ इसलिए वो मामूली सी राशी जमा करवा लेते हैं और उपकरण वापस मिलने पर पूरे पैसे उन्हें लौटा देते हैं, तो एक तरह से महँगी से महँगी सुविधा भी मुफ्त.

इतना ही नहीं ‘पर पीड़ा हर सोसाइटी समिति’ ने महाराजा यशवंतराव हॉस्पिटल को भी इलाज में प्रयुक्त होने वाले लाखों रुपए के उपकरण उपलब्ध करवाए हैं, जो मरीज़ों के इलाज में काम आ रहे हैं.

साबू जी किसी भी मरीज़ कि सहायता के पूर्व के सुनिश्चित करते हैं कि वाकई उस मरीज़ को उस सहायता की आवश्यकता है भी या नहीं और ज़रूरत अनुसार उनकी मदद करते हैं.

राधेश्याम साबू जी ने अभी 26 दिसम्बर को ही अपना 77वां जन्मदिवस मनाया.

वे अपने सामाजिक हित के कार्यों का श्रेय अपनी माँ द्वारा दिए गए संस्कारों को देते हैं जो उनकी रग-रग में दौड़ता है, वे कहते हैं कि इस सामाजिक कार्य ने उनके old age को gold age में तब्दील कर दिया है और इससे ख़ुशी की बात और क्या होगी कि उनका पूरा परिवार उनके इस कार्य के लिए उत्साहवर्धन करता है.

सामाजिक हित के न जाने कितने ही कार्य ‘पर पीड़ा हर सोसाइटी समिति’ करती है, जैसे- हर रोज़ हॉस्पिटल में सुबह-शाम दुध बाँटना, इस कार्य में परमानन्द जी व महेंद्र त्रिवेदी जी मुख्य सहायक हैं; रक्त से जुड़े कार्य मधु भंडारी जी संभालती हैं; हॉस्पिटल के बाहर कई बार ज़रूरतमंदों के लिए टेबल कपडे रख देते हैं जिससे वो ज़रूरत अनुसार कपड़ो का चयन कर सकें.

वे कहते हैं कि फिर भी कभी कभी कुछ न कुछ कम पड़ ही जाता है.

निरंतर कार्य करने के लिए वे पैसों की व्यवस्था के लिए सोशल नेटवर्किंग चैनलों का भी सहारा लेते हैं जैसे whatsapp या facebook पर सन्देश प्रसारित कर करते हैं.

वे नहीं चाहते कि केवल आर्थिक कारणों से किसी का इलाज रुक जाए और कोई किसी अपने को खो दे.

साबू जी मानते हैं कि नई पीढ़ी भावुक है तथा उसमें परोपकार की भावना भी है, बस उन्हें थोड़ा समय निकलने की आवश्यकता है. वह बस इतना चाहते चाहते हैं कि समाज में जिन लोगों के पास ज़रूरत से ज़्यादा है वो ज़रूरतमंदों की सहायता के लिए आगे आएं.

राधेश्याम साबू जी जैसे व्यक्तित्वों की उपस्थिति ही इस समाज को रहने के लिए एक बेहतर जगह बनाती है.

77 साल के इस जवान को न्यूज़ मोर्चा उनके जन्मदिन पर अपनी शुभकामनाएं देता है और उनके शतायु होने की कामना करता है.

विशेष नोट: न्यूज़ मोर्चा एक पॉजिटिव ख़बरों को आप तक लाने वाला सिर्फ एक पोर्टल ही नहीं, मिशन भी है. अगर आप भी इस मिशन में सहयोग देना चाहें तो हर वह खबर जो समाज और देश की भलाई से जुडी हो, हम तक पहुंचाएं. आपको यदि किसी संस्था या व्यक्ति की ऐसी ही खबर हम तक पहुंचानी हो तो आप हमारे इंदौर शहर के मीडिया पार्टनर श्री विजय नीमा से 9669 75 6000 या 9644 75 6000 पर संपर्क कर सकते हैं.

यदि आप हमारे मीडिया हाउस में इंदौर से इंटर्नशिप करना चाहते हैं तो ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें https://hindi.newsmorcha.com/rising-reporter/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Attention! Don\'t Copy The Content.