अब ड्रोन रखेगा शहर के अतिक्रमण पर नजर

धनंजय बरमाल
नेमो ब्यूरो. रायपुर

नगर निगम क्षेत्र के मकानों और अन्य संपत्तियों की जीआईएस सर्वे के लिए मॉडल वार्ड के रूप में चयनित शहीद हेमूकालाणी वार्ड में 350 घरों की प्रारंभिक सर्वे रिपोर्ट संतोषजनक पाई गई। निगम आयुक्त रजत बंसल ने सर्वे में कुछ और आवश्यक चीजों को जोड़ने के निर्देश दिए। साथ ही घरों, मोहल्ले और सड़कों में भी अवैध निर्माण या अतिक्रमण रोकने ड्रोन कैमरों से निगरानी के लिए प्रस्ताव बनाने कहा।

निगम मुख्यालय भवन में हुई समीक्षा बैठक में 350 घरों के संपत्ति का विवरण प्रस्तुत किया गया। साथ ही सर्वे कंपनी ने योजना से संबंधित समस्त कार्यप्रणाली का प्रेजेंटशन दिया। इस पर निगम आयुक्त ने उन्हें सर्वे के लिए कुछ और बाते भी जोड़ने के निर्देश दिए। जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि सर्वे से संबंधित किसी भी प्रकार की त्रुटि न हो सके। मोबाइल एप से किए जा रहे सर्वे में मौजूदा स्वामित्व की समस्त जानकारी पहले से मौजूद रहने से भवन स्वामी के स्वामित्व से संबंधित गलती की गुंजाइश नहीं है, सर्वेयर उक्त भवन के अन्य जानकारियों जैसे संपत्ति का क्षेत्रफल उसका प्रकार और उसका उपयोग आदि जानकारी को अपडेट किया जा रहा है। भवन अथवा भूमि के क्षेत्रफल और भवन के प्रकार से संबंधित जानकारियों और उसके निगरानी और अतिक्रमण जैसी चीजों की निगरानी रोकने के लिए ड्रोन कैमरे का उपयोग किया जाएगा। आमतौर पर देखा जाता है कि फुटपाथ में बिजली खंभे की आड़ में अतिक्रमण हो जाते है।

होगी जीआईएस सर्वे, बाद में मंगाई जाएगी दावा आपत्ति
बिजली खंभों को फुटपाथ से हटाने के बाद फुटपाथों की भी निगरानी की जाएगी ताकि फुटपाथ का उपयोग सिर्फ चलने के लिए हो सके। ड्रोन कैमरे से निगरानी के लिए बंसल ने अधिकारियों को प्रस्ताव बनाने के लिए कहा। साथ ही सभी वार्डो में सर्वे के उपरांत समस्त जानकारियों की आनलाइन दावा आपत्ति भी मंगाई जाएगी। सर्वे कंपनी इस परियोजना में जीआईएस सर्वे से इस बात को भी सुनिश्चित करेगी कि सर्वे का कवरेज सौ फीसदी हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Attention! Don\'t Copy The Content.