धरती पर सबसे ठंडी जगह है ओइमाकॉन

आज हम आपको दुनिया के सबसे ठंडी जगह की सैर कराएंगे. ये जगह है रूस के साइबेरिया में बर्फ की घाटी में बसा एक छोटा सा गांव और इस गांव का नाम है ‘ओइमाकॉन’ या Oymyakon. दिलचस्प बात ये है कि स्थानीय भाषा में ओइमाकॉन का मतलब होता है, जहां पानी न जमता हो, लेकिन हकीकत ये है कि यहां पानी तो क्या जिंदगी भी जम जाती है.

रूस की राजधानी मास्को से पूरब की तरफ 3000 मील के सफर के बाद दुनिया का वो कोना आता है, जिसका नाम है ओइमाकॉन है. साइबेरिया में बर्फ की घाटी में बसा एक छोटा सा गांव, यहां दूर-दूर तक जमीन नजर नहीं आती है. चारो तरफ सफेद बर्फ की चादर ही नजर आती है.

यहां के लोगों का गुजर-बसर करना मुश्किल हो गया है. नदी से लेकर पेड़ सभी चीज जमी हुई है. सोशल मीडिया पर यहां की तस्वीरें काफी वायरल हो रही हैं. बता दें, ओइमाकॉन का मतलब होता है, ऐसी जगह जहां पानी जमता नहीं हो, लेकिन यहां पानी से लेकर इंसान भी जम गया है. यहां सबसे कम तापमान -72 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था. इस जगह को ‘पोल ऑफ कोल्ड’ भी कहा जाता है.

यहां कुछ वक्त गुजारते थे फौजी

इस जगह का इतिहास भी बड़ा दिलचस्प है. 1930 में जहा फौजी कुछ वक्त के लिए रुकते थे. यहां पहले कोई रहता नहीं था. फिर सरकार ने ये जगह नोमैडिक लोगों को दे दी और लोग यहां आकर बस गए. यहां न नल से पानी निकलता है और न गाड़िया चलती हैं. यहां गाड़ियां चलाने के लिए पहले हीट गराज में गाड़ी को रखना पड़ता है. यहां लोग जैसे ही बाहर निकलते हैं तो चेहरा बर्फ से जम जाता है. यहां के लोग ऐसी ही कई चुनौतियों का सामना करते हैं.

यह भी देखें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Attention! Don\'t Copy The Content.