निजी कंपनियां बनाएंगी रेल पटरियां, सेल का खेल हो सकता है खत्म

भारत में ट्रेनें अब निजी स्टील कंपनियों की बनाई पटरियों पर दौड़ सकती हैं. भारतीय रेलवे ने इसके लिए ग्लोबल टेंडर आमंत्रित किए हैं, जिसके लिए निजी कंपनियां भी आवेदन कर सकती हैं. यदि ऐसा होता है तो अब तक रेलवे के लिए स्टील की सप्लाइ में एकाधिकार रखने वाली सरकारी कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया (सेल) का वर्चस्व खत्म हो सकता है. एशिया के सबसे पुराने रेल नेटवर्क्स में से एक भारतीय रेलवे इन दिनों सप्लाइ की कमी के संकट से जूझ रहा है.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि रेलवे 7 लाख मीट्रिक टन पटरियां ट्रैक अपग्रेड के लिए खरीदना चाहता है. उनका कहना है कि इससे रेलवे को आसानी से स्टील की उपलब्धता हो सकेगी. इस कदम से स्टील की उपलब्धता आसानी और कम कीमत पर हो सकेगी. ऐमकै ग्लोबल फाइनैंशल सर्विसेज से जुड़े गौतम चक्रवर्ती ने बताया कि जिंदल स्टील ऐंड पावर लिमिटेड को इससे सबसे बड़ा फायदा हो सकता है क्योंकि वह अकेली ऐसी कंपनी है, जो इस स्तर पर काम करती है और भारत की घरेलू कंपनी है.

बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने पुराने रेल ट्रैक को दुरुस्त करने के लिए रेलवे में 8.6 खरब रुपये के निवेश की योजना बनाई है. कई रेल ट्रैक्स को अपग्रेड करना या उनके विस्तार का काम जारी है ताकि यात्रा के समय में कटौती की जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Attention! Don\'t Copy The Content.